Home Blog Page 2

Blogging क्या है? Blogging से पैसे कैसे कमाते हैं?

2
Professional Blogging kya hai

अगर आप जानना चाहते हैं कि Blogging क्या है Blogging से पैसे कैसे कमाते हैं? या Blogging कितने प्रकार की होती है। Professional Blogging क्या होती है? तो आप इस Article को पूरा पढ़ें। हम इस Post में आपको सब कुछ details में बताने वाले हैं।

अगर आप Blogging कर रहें है या Professional Blogging के बारे में Internet पर Search कर रहें है। तो आपके मन की कहीं न कहीं इच्छा जरूर है कि आप Professional Blogger बनना चाह रहे हैं। तो इस पोस्ट में हम जानेंगे कि Professional Blogging क्या है? और Professional Blogger बनने के लिए कौन कौन से Points को ध्यान में जरूर रखना चाहिए।

आपको पता ही होगा कि करोड़ो लोग अपनी Problem को Solve करने के लिए Internet का Use करते हैं। और वह अपनी समस्याओं और Questions को इंटरनेट पर सर्च करते हैं। और Search Engines आपको कुछ Results दिखाता है। जो कि वेबसाइट पेज के Address होते हैं। जिन पर उन सवालों का सही Answer होता है। और आप उन Web Pages को देख करके अपने Questions के Answer पाते है।

ये जो वेबसाइट और वेबपेज होते हैं। इन्हें Search Engine खुद नही बनाता है। इन websites और Blogs को आप और हम बनाते है।  और क्या आपको पता है इन websites से पैसे कैसे कमाए जाते हैं। इन Website और Blogs पर जो ads होते हैं। उनके जरिये ही इनकी कमाई होती है।

● Blog से पैसे कमाने के 5 बेहतर तरीके
Blogger पर Free Blog कैसे बनाएं

आपने जब कभी भी Internet से Online पैसे कमाने के बारे में किसी Article या Video में पढ़ा या देखा होगा। तो उसमें आपको Blogging के बारे में सुनने को जरूर मिला होगा। क्योंकि Blogging अपने Skill से पैसे कमाने के लिए एक बेहतर तरीका है। Blogging करने वाले को दूसरे की help के साथ साथ पैसे कमाने का भी मौका मिल जाता है। इसलिए Blogging के प्रति ज्यादा लोग इच्छुक हैं। तो चलिए जानते हैं कि Blogging kya hai, Blogging कितने Types की होती है।

 Internet से Online पैसे कैसे कमाएँ?

Professional Blogging kya hai

Blogging क्या है? What is Blogging in Hindi?

जब हम अपने Life Experience, Personal Skills को शब्दों के माध्यम किसी भी वेबपेज पर लिख कर दुनिया से शेयर करते हैं। और जिस किसी को भी उसकी जरूरत होती है। उस व्यक्ति तक आपके शब्द पहुंचते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर हम Travel Blogging करते हैं। और हम नैनीताल की घाटियों में जाते हैं। और वहाँ के सुहावने और मनोरम दृश्य, वातावरण और रहन सहन का अपने Blog पर कोई लेख प्रकाशित करते हैं। तो जिस भी व्यक्ति को नैनीताल घूमने जाना है, और वह इंटरनेट पर नैनीताल के बारे में लेख सर्च करता है। तो उसे हमारा लेख मिलता है। और वो हमारे बातों को पढ़ता है। तो उसे हमारे द्वारा दी गयी जानकारी मिल जाती है। हम अपने Blogs में चित्र, वीडियो और ऑडियो का भी प्रयोग कर सकते हैं।

 

आपको ब्लॉगिंग करने के लिए बहुत सारे Paid और Free Blogging Platforms मिल जाएंगे। जिन पर आप आसानी से Blogging कर सकते हैं।

● Blogging के लिए 10 Best Platforms

Blogging के प्रकार, Types Of Blogging

आजकल इंटरनेट पर आपको हर तरह के Blogs मिल जाएंगे। कुछ लोग अपनी Personal lifestyle को शेयर करने के लिए, Business Promotion के लिए या पैसे कमाने के लिए Blogging कर रहें है। इस प्रकार Blogging के कई प्रकार है। लेकिन Blogging मुख्यतः दो प्रकार की होती है।

1. Personal Blogging (पर्सनल ब्लॉगिंग)
2. Professional Blogging (प्रोफेशनल ब्लॉगिंग)

Personal Blogging

शुरुआत में Personal Blogging का प्रचलन ज्यादा था। जो लोग अपने Personal experience को लोगों के साथ share करना पसंद करते हैं। उनका किसी भी प्रकार से पैसे कमाना मकशद नही होता है। और वह बिना किसी Strategy के साथ Blogging करते हैं। Personal Blogging को Hobby Blogging के नाम से भी जाना जाता है। Personal Blogging में लोग अपनी कविताएं, जीवन कहानी, अपने जीवन के किस्से और Achievements को शेयर करते हैं।

Professional Blogging

 आज के समय मे Professional Blogging का ज्यादा जोर है। लोग पैसे कमाने के लिए Blogging का ज्यादा प्रयोग कर रहे हैं। प्रोफेशनल Blogging में लोग अपने Skill और Talent को Show करके पैसे कमाते हैं। जिनसे उनका जीवन यापन हो सके। प्रोफेशनल Blogging एक प्रकार का व्यवसाय (बिज़नेस) है। जिसमे लोग अपने Blog और Website पर Advertisment, Affiliate और Sponshership से पैसे कमाते हैं।

प्रोफेशनल ब्लॉगिंग क्या है (Profesional Blogging kya hai?)

अब हम प्रोफेशनल ब्लॉगिंग के बारे में बात करेंगे। आपने Short में ऊपर कुछ जानकारी जरूर हासिल कर ली होगी। जब हम किसी Blog पर किसी खास Strategy और Motive को दिमाग मे रखकर Blogging करते हैं। क्योंकि हमें अपने Content से ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाना है। इसलिए प्रो ब्लॉगर बनने के लिए आपको सबसे पहले अपनी Strategy और Plan setup करना होता है।

क्योंकि अगर आप किसी भी सफल ब्लॉगर के इंटरव्यू या किसी अन्य जरिये से Blogging journey के बारें में पता करते हैं। तो आपको यही मंत्र सुनने को मिलेगा।
” अगर आप प्रो ब्लॉगर बनना चाहते हैं तो आप को किसी Strategy, plan और धैर्य के साथ ब्लॉगिंग करें। आपको बेहतर अनुभव मिलते रहेंगे।”

अगर आपको लिखने का शौक है। और आप अपनी Skill और Art को पहचान रहे हैं। तो आप Blogging में आ सकते हैं। प्रोफेशनल ब्लॉगिंग में आपको कड़ी मेहनत और धैर्य की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। क्योंकि आपको शिखर पर ही बने रहना होता है।

Blogging से पैसे कैसे कमाते हैं?

ब्लॉगिंग से पैसे कमाने के लिए बहुत सारे तरीके हैं लेकिन हम कुछ मुख्य तरीकों के बारे में जानेंगे। जो ज्यादा प्रयोग किये जाते हैं। और Visitors के लिए भी सही होते हैं।

Advertisement– ब्लॉगिंग से पैसे कमाने का यह सबसे बेहतर तरीका है इसमें हम अपने ब्लॉग और वेबसाइट में Ads लगाते हैं। जिन पर क्लिक के हिसाब से हमें पैसे मिलते हैं। इसके लिए हम Google AdSense, media.net इत्यादि वेबसाइट से लगा सकते हैं।

Affiliate Marketing– Blogging में affiliate से अच्छा पैसा कमा सकते हैं। साथ ही आपके Visitors को कुछ सुविधा मिल जाती है। बस आपको Trusted Product की Affiliate Marketing करनी चाहिए।

Blogging से पैसे कमाने के ज्यादा तरीके जानने के लिए 5 बेहतर तरीकों के बारे में पढ़ सकते हैं।

इसे भी पढें-

आशा है आपको हमारा Article Blogging क्या है? Blogging से पैसे कैसे कमाते हैं? पसंद आया होगा। अगर आपको लेख पसन्द आया हो तो इसे आप Social मीडिया पर जरूर शेयर करें।
अपने विचारों और सवालों को हमसे साझा करने के लिए Comment जरूर करे।

AEPS क्या है? Full Form, Registration, Benefits Details In Hindi

0
AEPS क्या है

AEPS क्या है? Full Form, Registration, Benefits Details In Hindi Complete jankari- इस Article मे हम AEPS kya hai? एईपीएस का Full Form, Registration, AEPS से क्या फायदे और लाभ है और ये कैसे काम करता है। इसके बारे मे Details मे बात करेंगे। तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ें।

Aadhaar Enabled Payment System (AEPS)

AEPS एक ऐसा Transaction System है जो Banks द्वारा लोगों के लिए जिनके पास Smartphone नही है या Digital Transaction से संतुष्ट नही हैं, उनके लिए बनाया गया है। यह केवल Transaction System है जिसमे आपको Cash मिल जाता है। AEPS System में User Authentication के लिए Finger Print या Iris Image का प्रयोग किया जाता है। इस System में एक Oprator और Micro-ATM की आवश्यकता होती है। जो किसी Bank Account Holder को Limited Banking सेवाएं प्रदान करता है।

AEPS System का Use ऐसी जगहों पर किया जाता है। जहाँ Banks बहुत दूर होती हैं। और लोग SmartPhone और Digital Banking नही Use करना जानते हैं।

AEPS क्या है

AEPS क्या है? What is AEPS in Hindi?

Aadhaar Enabled Payment System में आपको mobile Number और smartphone की आवश्यकता नही होती है. इसमें केवल आपके Aadhaar से Authentication होता है और आपका Transaction successful हो जाता है. जैसे की UPI और IMPS में आपके Mobile Number और Smartphone की आवश्यकता होती है. इसके अलावा आपको इन्टरनेट कनेक्शन की भी आवश्यकता होती है जबकि AEPS banking में आपको Phone और Internet की कोई आवश्यकता नही होती है. इसके साथ ही आपको कोई पिन नंबर भी याद करना नही पड़ता है.

AEPS के फायदे (लाभ)-

  1. इससे आप Account Balance Check, पैसे जमा करना, पैसे निकालना, Mini Statement जैसी सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं.
  2. इसमें केवल Micro-ATM की आवश्यकता होती है जिससे इसे किसी भी जगह आसानी से ले जाया जा सकता है.
  3. इसमें आप किसी भी bank में पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  4. पैसे निकालने के लिए किसी भी प्रकार के डेबिट कार्ड और सिग्नेचर और पिन की आवश्यकता नही होती है.
  5. इसमें आपके Finger-Print की आवश्यकता होती है जिससे ये काफी Secure और Safe है.
  6. Banking Correspondent किसी भी दूर जगह Micro POS के साथ आसानी से जा सकता है और banking services provide करा सकता है.
  7. बड़े दुकानदार भी पैसे लेने के लिए AEPS का प्रयोग कर सकते हैं.

AEPS के द्वारा Transaction (लेनदेन)

AEPS से bank आपको limited Services provide करवाती हैं इसमें आप केवल 5 type के Transactions कर सकते हैं,

  1. Balance Check
  2. Cash Deposit
  3. Cash Withdrawal
  4. Mini Statment
  5. Aadhaar to Aadhaar Fund Transfer

The Aadhaar to Aadhaar fund transfer के लिए Merchant Payment प्रणाली प्रयोग की जाती है. इसके लिए कोई दुकानदार Dedicated Application प्रयोग कर सकता है. Fund Transfer के अलावा आप सभी प्रकार के Transactions किसी भी bank के Bank Correspondent के द्वारा कर सकते हैं. Fund Transfer के लिए आपको अपने bank के Banking Correspondent के द्वारा Transaction करना होगा.

AEPS में आवश्यक चीजें

Aadhaar Enabled Payment System (AEPS) में आपको केवल 3 चीजों की आवश्यकता होती है, और आप बड़ी आसानी से बिना पेपर और कार्ड के पैसे निकाल सकते हैं.

  1. Aadhaar Number
  2. Bank IIN or Name
  3. Fingerprint

AEPS में आपको केवल अपना मोबाइल नंबर और आधार नंबर याद करना होता है और आप आसानी से पैसे निकाल सकते हैं

IIN क्या होता है?

IIN का Full Form Issuer Identification Number होता है. जिन Banks ने AEPS में भाग लिया है उनको NPCI ने 6 Numbers का एक कोड दिया है. AEPS में आपको bank के लिए उसका IIN भरना होता है.

किसी भी Fund transfer करने के लिये IIN number और आधार नंबर जरुरी होता है, आप एक आधार नंबर को कई Bank Accounts से Link कर सकते हैं इसलिए IIN number से ही Bank का पता चलता है. जैसे Axis Bank का IIN Number 607153 है.

AEPS में Authentication के लिए आधार क्यों जरुरी होता है?

जब आपका आधार कार्ड बनता है तो आपके फिंगरप्रिंट और आँख की आईरिस का इमेज लिया जाता है. इसी biomatric डाटा से आपके आधार नंबर का पता चल जाता है. चूँकि एक व्यक्ति के ही आईरिस और फिंगरप्रिंट किसी भी व्यक्ति से मिलते नही हैं. इसीलिए आधार कार्ड का प्रयोग AEPS में यूजर ऑथेंटिकेशन के लिए प्रयोग किया जाता है. आपका आधार नंबर आपके फिंगरप्रिंट से वेरीफाई हो जाता है और आप Fund Transfer कर पाते हैं.

Aadhaar Enabled Payment System कैसे काम करता है?

AEPS में आपके आधार कार्ड से ही पैसों का लेन देन किया जा सकता है। लेकिन ये तभी संभव है जब आपके Bank Account से Aadhar Card link होता है। आपके Fingerprint के द्वारा UIDAI Authenticate करता है, कि ये आपका ही आधार नंबर है। इस transcation में UIDAI, Bank को User की सभी जानकारी शेयर करती है। जिससे Bank Transaction को आगे Process किया जाता है।

AEPS kaise kaam karta hai How AEPS works

Aadhaar Enabled Payment System (AEPS) में Transaction के लिए 6 संस्थाओं को काम करना पड़ता है।

  1. आपको Bank Customer के रूप में
  2. Banking Agent को – AEPS Service Provider के रूप में
  3. Banking Correspondents की Bank – जिस बैंक से Banking Correspondents जुड़ा होता है
  4. आपकी Bank– जिस Bank में आपका Account होता है
  5. NPCI – इसके द्वारा ही सभी Transactions को Successful किया जाता है।
  6. UIDAI – User Authentication यानि आपके पहचान के लिए

AEPS का शुल्क

यह UPI की अपेक्षा बहुत महंगा Transaction है। इसमें आपको लगभग 1 Transaction का 15₹ शुल्क देना पड़ जाता है। जबकि UPI Transaction free है। AEPS Transaction में आपको 3 संस्थाओं को शुल्क देना पड़ सकता है।

  1. UIDAI को User Authentication करना पड़ता है। इसलिए UIDAI कुछ शुल्क ले सकता है। लेकिन UIDAI ने अभी कोई ऐसा Charge नही लगाया है ये Totally Free है।
  2. NPCI 10 पैसे User Authentication और 25 पैसे Settlement का charge लगाती है।
  3. Bank आपके Transaction Value का 1% Charge करती है अगर आपका Account किसी अन्य Bank में है। किसी अन्य Bank में Transaction के लिए आपको Minimum 5₹ तथा Maximum 15₹ का charge देना पड़ सकता है।

केंद्र सरकार ने तय किया है कि 31 दिसम्बर 2019 तक की लागत केंद्र सरकार ही सहन करेगी। क्योंकि केंद्र सरकार अभी debit card, UPI, AEPS, MDR Charge की सब्सिडी दे रही है। इसलिए अभी AEPS बिना किसी चार्ज के लिए उपलब्ध है।

  • AEPS Transaction की सीमाएं : इसमें आप केवल 50,000₹ प्रति दिन एक Account से लेन देन कर सकते हैं।
  • Settlement Time: AEPS Transaction में आपको Settlement time 23:00 घंटे का मिलता है।
  • AEPS Full Form: Aadhaar Enabled Payment System

इसे भी पढ़ें-

अगर आपको AEPS क्या है? Full Form, Registration, Benefits Details In Hindi पोस्ट अच्छी लगी है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप Comment Box के माध्यम से हम को बता सकते हैं।

Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye

0
Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye

Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye. Aur ye blog ke liye kyu jaroori hota hai. Is post me ham HTML Sitemap ki importance ke sath sath. blog ke liye html sitemap ki jarurat ke baare me baat karenge.

Jaise XML sitemap Search engines ke liye bahut hi mahtvapurn hota hai. Waise hi Html sitemap Visitors ke liye bahut hi important hota hai. Ham ye aasani se apne blog visitors ko bata sakte hain. Ki hamne kis topic par kaun kaun si post likhi haun.

Html sitemap Aur Xml Sitemap me kya antar hai ?

Xml Sitemap- xml sitemap ko hm search engine me submit karte hain. jisse use hamari post aur pages tags ko index karne me aasani hoti hai. Aur hamare blog par raffic badhta hai.

Html Sitemap- Html sitemap ko ham kahi submit nhi karte hain. Lekin Html sitemap ka ham ek page banate hain. Jiske dwara hamare blog readers aur visitors ko sabhi posts ek jagah par mil jaati hain. Demo ke liye Hindi Blog Advice Sitemap page Dekh sakte hain. Isse aapko andaza lag jayega. Ki sitemap page ki kya value hai ?

WordPress Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye

Chaliye ham jaante hain ki WordPress Blog website me HTML sitemap page kaise banate hain. Kynki HTML sitemap se aapke visitors aapki sabhi posts ko ek page par aasani se paa jaate hain. Aur unko manpasand posts read karne ka mauka mil jaata hai.

HTML Sitemap page ko, WordPress blog ke liye banana bahut hi aasan hota hai. Isme aap Plugin ki help le sakte hain. Aur bahut hi achha sitemap page bana sakte hain. Wordpress Blog Ke Liye HTML Sitemap Page banane ke liye hamare dwara bataye gaye steps ko follow kare. Jisse aapko Html Sitemap page banane me bahut hi aasani hogi.

Step 1 Download & Activate Hierarchical HTML Sitemap Plugin

Sabse pahle aapko apne WordPress blog ke Dashboard me Login karna hai.

Wordpress Blog Ke liye Sitemap Page Kaise Banaye

  1. Ab aapko plugins section me jaane ke liye Plugins par click karna hai.
  2. New plugin add karne ke liye Add New par click karna hai.
  3. Search Box me Hierarchical HTML Sitemap type karke search karna hai.
  4. Ab aapko Hierarchical HTML Sitemap name se ek plugin show hogi. Plugin ko install karne ke liye Install Now button par click kare.
  5. Jab plugin install ho jayegi. To aapko Install Now ki jagah par Activate ka Button Show hoga. Aapko Activate button par click karna hai.

Step 2- Create Html Sitemap Page

  1. Pahle aap dekh le ki Hierarchical HTML Sitemap Plugin achhe se Install aur Acivate ho gayi hai.
  2. Ab appko Pages par jakar Add New par click karna hai.
  3. Aap title me Sitemap type kare. Aur Content Box
    Type kare.
  4. Page ko Publish kane se pahle  Preview jaroor kare.
  5. Page ko Publish karde. Aur ise Header ya Footer page nevigation me add karde.

Blogger Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye

Blogspot Blog me HTML Sitemap kaise banate hain. iske liye aap neeche ki post Completely read karen. Post me Working Code Update kiya gaya hai. ab aap aasani se Blogger Blog ke liye HTML sitemap Page bana sakte hain.

Blogger Me html sitemap page Create karna thoda kathin hai. Kyunki Blogger blog me aap kisi tool ki help nhi le sakte hain. Agar aap hamare dwara bataye gaye steps ko follow karte hai. to aapko blogger blog ke liye HTML sitemap page banane me aasani hogi.

Sabse pahle www.blogger.com par jakar aap dashboard me login kar len.

Blogger Blog ke liye Html sitemap page kaise banaye

  1. Ab aapko Page section me jana hai.
  2. Fir aapko New page par click karna hai.

Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye

  1. Ab aapko page title me Sitemap Type karna hai.
  2. Fir aapko Html par click karna hai.
  3. Ab aapko upar Code Box me diya gaya code Copy karke Post Editor me Paste karna hai. Code me diya gaya link https://www.hindiblogadvice.com apne blog Url se repalce kar dena hai.
  4. Iske baad aapko post publish karne ke liye Publish par click karna hai.

Ab aapke blogger blog me Sitemap page add ho chuka hai. Isko apne visitors / readers ko show karne ke liye, Footer ya header page nevigation menu me add kar de.

Also Read..

Agar aapko Html sitemap page create karne me koi problem hoti hai. To aap apni problem comment box me share/ submit kar sakte hain. Agar aapka anya koi bhi savaal hai to aap hame contact kar sakte hain.

Blog Ke Liye HTML Sitemap Page Kaise Banaye, Article aapko kaisa laga aap hame Comments ke dwara bata sakte hain. Aap apne doston ke sath is Article ko Social Media par jarur Share karen.

Happy Blogging///